Ads

Smartphone में मौजूद वायरस का इस तरह पता लगाएं, कभी नहीं होगा हैंग

smartphone virus
Image by - Mint

अक्सर कुछ समय के बाद हमरा फ़ोन हैंग होने लगता है, और इसका सबसे बड़ा कारन फ़ोन के अंदर वायरस का होना होता है। 

हम सब को पता है की वायरस इंसान के अंदर हो या स्मार्टफोन के अंदर यह काफी खतरनाख होता है वायरस में मौजूद कोडिंग आपके स्मार्टफोन के ऑपरेटिंग सिस्टम में जा कर ऐसे इस्टॉल हो जाता है की आप चाह कर भी इसे हटा नहीं सकते और धीरे से यह हमारे फ़ोन को संक्रमित कर देते है। और उसके बाद यह हमारे सभी प्रकार के डेटा को हैक कर सकता है। और सबसे बड़ी बात यह है की हमको इसके बारे से कोई खबर भी नहीं पड़ता। वैसे तो ऑपरेटिंग सिस्टम के नए नए अपडेट से बाद बहुत सरे सिक्योरिटी और परमिशन फीचर्स दिए जाते है, लेकिन फिर भी हमें अपनी ओर से वायरस का पता लगा कर उन वायरस को साफ करना चाहिए। 

वैसे तो वायरस को क्लीन करने के लिए कई सरे एप्स आते है जो स्कैन करने के बाद पूरी तरह से सेफ बताते है, लेकिन इसके बावजूद हमारे फ़ोन के परफॉर्मन्स में कोई फर्क नहीं पड़ता। तो आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके के बारे में बताने जा रहे जिससे आप अपने फ़ोन में मौजूद वाइरस को आसानी से पता लगा सकते है।

इस कारण आते हैं वायरस  

अक्सर हम अपने स्मार्टफोन में 3rd पार्टी एक्स का इस्तेमाल करते है जिसकी वजह से हमारे स्मार्टफोन पे अनेक प्रकार के वायरस और मालवेयर आ जाते है, और हमको पता भी नहीं चलता और साथ ही साथ बहुत सरे 3rd पार्टी अप्स के पीछे हैकर्स भी छिपे रहते है जो हमारे स्मार्टफोन या हमारे अकाउंट को हैक कर सकते है। इस लिए कभी भी 3rd पार्टी अप्स का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए हमेशा गूगल प्ले स्टोर ( Google Play Store ) या एप स्टोर ( App Store ) से ही एप्लीकेशन डाउनलोड कर इनस्टॉल करना चाहिए, क्योकि कोई भी एप्लीकेशन स्टोरस में आने से पहले उस अप्स की अच्छी तरह से जाँच की जाती है। 

ऐसे पहचानें फोन में वायरस है की नहीं?

  • कई बार ऐसा होता है कि काफी सतर्क रहने के बाद भी, कोई वायरस या मैलवेयर आपके फोन में घुस जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं कि आप कैसे अपने फोन में वायरस की पता लगा सकते है। 
  • अगर आपके फोन पर बार-बार पैसे कमाने के लिए मैसेज आते हैं, कॉल्स आते हैं या फिर ऐसे ही ऐप्स कई बार दिखाई देते हैं तो इसका मतलब है कि आपके फोन में वायरस मौजूद हो। 
  • आपके फोन पर कई विज्ञापन (Ads.) आते हैं तो इसका मतलब है कि वायरस ने आपके स्मार्टफोन को संक्रमित कर दिया है। 
  • मैलवेयर और ट्रोजन स्पैम टेक्स्ट मैसेज भेजने के लिए आपके स्मार्टफोन का उपयोग कर सकते हैं। 
  • आपके स्‍मार्टफोन की प्रोसेसिंग स्पीड हद से ज्यादा स्लो होना भी वायरस का कारण हो सकता है। 
  • वायरस और मैलवेयर आपके स्मार्टफोन में नए ऐप्स भी डाउनलोड कर सकते हैं, अगर आपके स्मार्टफोन पर आटोमेटिक नए अप्स डाउनलोड होते है तो इसमें सतर्कता बनाये रखे। और उन अप्स को तुरंत अनइस्टॉल कर दे।
  • अपने आप डाउनलोड हुए ऐप्स और अनजान नंबर से मैसेज आपके इंटरनेट डाटा को भी तेजी से खर्च कर सकते हैं, अगर आपका भी इंटरनेट डाटा तेजी से खत्म हो जाता है तो इसे भी वायरस का सिग्नल समझें। 
  • अगर आपके स्‍मार्टफोन नया है और उसकी बैटरी भी ज्‍यादा देर तक नहीं चलती है तो इसका वायरस से संबंध हो सकता है, क्योकि बहुत सरे वायरस बैकग्राउंड में काम करते रहते है जो बैटरी को जल्दी लो कर देता है। 

अगर ऐसा कोई बड़ी परेशानी आपके स्मार्टफोन पर दिखाई पड़ती है तो इसका एक ही उपाय है आप अपना स्मार्टफोन को फैक्ट्री डाटा रिसेट ( Factory Data Reset ) कर दे इससे आपके स्मार्टफोन पे इस्टॉलड वायरस ख़त्म हो जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ